कैबिनेट मंत्री जोशी ने किया हिमाद्री इम्पोरियम का उद्घाटन, उत्तराखंड राज्य शिल्प रत्न पुरस्कार का किया वितरण।

देहरादून : पटेल नगर स्थित जिला उद्योग केन्द्र परिसर में नवनिर्मित हिमाद्रि इम्पोरियम का उद्घाटन एवं उत्तराखंड राज्य शिल्प रत्न पुरस्कार का वितरण औद्योगिक विकास, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम, खादी ग्रामोद्योग, सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी द्वारा किया गया।
परिषद द्वारा राज्य के उत्कृष्टत शील्प उत्पादों का हिमाद्रि ब्राण्ड के अन्तर्गत इस हेतु स्थापित विभिन्न इम्पोरियमों के माध्यम से विपणन किया जा रहा है। इसी क्रम में देहरादून में पटेल नगर स्थित जिला उद्योग केन्द्र के परिसर में हिमाद्रि इम्पोरियम स्थापित किया गया है। इस इम्पोरियम के माध्यम से राज्य के विशिष्ट शिल्प उत्पाद जैसे ऐंपण, ताम्र षिल्प, रिंगाल, काश्ठ शिल्प, बैम्बू, नमदा, कालीन, मूंज, पाॅटरी एवं वूलन उत्पाद विपणन हेतु उपलब्ध हैं। टैक्सटाइल उत्पादों में राज्य की स्थानीय कला ऐंपण का कार्य किया जा रहा है। ताम्र शिल्प से परम्परागत उत्पादों के साथ-साथ बाजार मांग के अनुरूप नवीन डिजाइनों के उत्पाद विकसित किये जा रहे हैं।


राज्य के परम्परागत षिल्प कला के संरक्षण, संवर्द्धन एवं प्रोत्साहन हेतु पारम्परिक कला, संस्कृति की परम्परा को अक्षुण्य बनाये रखने एवं शिल्पियों की कल्पनाशीलता, योग्यता तथा कारीगरी को प्रोत्साहित करने एवं शिल्प क्षेत्र में विशिष्ट योगदान देने वाले शिल्पियों को समुचित सम्मान दिये जाने के उद्देश्य से निम्न 04 शिल्पियों को उत्तराखंड राज्य शिल्प रत्न पुरस्कार प्रदान किये गये। पुरस्कृत शिल्पियों को सम्मान स्वरूप प्रषस्ति-पत्र, षाॅल, स्मृति चिन्ह् एवं रू0 1.00 लाख की राषि से सम्मानित किया गया।
1. गिरीश चन्द्र कण्डवाल(मै0 गिरीश गृह उद्योग एवं रेशा उत्पादन समिति, किमसार, कोटद्वार(पौड़ी गढ़वाल)।
2. नवीन कुमार टम्टा पुत्र जंगबहादुर टम्टा, अल्मोड़ा।
3. पार्वती खम्पा, ग्रा0 व पो0 विण, पिथौरागढ़।
4. सुनीता देवी, पत्नी स्व0 रविन्द्र सिंह, ग्रा0-क्षेत्रपाल, चमोली।
कोविड-19 से उत्पन्न परिस्थितियों के दृष्टिगत परिषद द्वारा अमेजन के माध्यम से राज्य के बुनकरों तथा शिल्पियों के उत्पादों का ऑनलाईन विपणन कार्य भी सफलतापूर्वक किया जा रहा है।


इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी द्वारा निर्देश दिये गये कि राज्य में स्थापित प्रतिष्ठित होटलों में शिल्प उत्पादों का प्रदर्शन एवं कैटालाॅग रखे जाने की व्यवस्था की जाय, ताकि राज्य में आने वाले पर्यटक यहां के शिल्प उत्पादों से परिचित हो सकें तथा षिल्प उत्पादों का विपणन अधिक से अधिक हो सके। कैबिनेट मंत्री जोशी द्वारा यह भी निर्देश दिये गये कि शिल्प क्षेत्र में विशिष्ट योगदान देने वाले शिल्पियों को समुचित सम्मान दिये जाने के उद्देश्य से उत्तराखंड राज्य शिल्प रत्न पुरस्कार के अन्तर्गत प्रतिवर्श 11 शिल्पियों को पुरस्कृत किये जाने की व्यवस्था की जाए।
उद्योग मंत्री ने कहा कि केन्द्र तथा प्रदेश की नीतियां यह दर्शाती हैं कि केन्द्र मे मोदी जी और प्रदेश में पुष्कर धामी की सरकार संतुलित एवं समन्वित विकास के साथ-साथ रोजगार सृजन तथा नागरिको के जीवन स्तर में सुधार के लिए पूरी तरह प्रतिबद्व है।
सचिव, एम.एस.एम.ई. द्वारा कहा गया कि विभिन्न पर्यटक स्थलों पर षिल्प उत्पादों के विपणन हेतु हिमाद्रि इम्पोरियम स्थापित किये जायेंगे तथा मार्केटिंग लिंकेज हेतु हिमाद्रि ब्राण्ड का प्रचार-प्रसार और अधिक किया जायेगा, साथ ही जिलाधिकारी के माध्यम से चयनित किये गये स्थानीय शिल्प उत्पादों को हिमाद्रि इम्पोरियम के माध्यम से भी विपणन की व्यवस्था की जायेगी।


इस अवसर पर धर्मपुर विधानसभा क्षेत्र के विधायक विनोद चमोली, राधिका झा, सचिव, एम.एस.एम.ई., उत्तराखंड शासन, रोहित मीणा, महानिदेशक/आयुक्त उद्योग, उत्तराखंड, सुधीर चन्द्र नौटियाल, निदेशक उद्योग, उत्तराखंड, नलिन राॅय, सहायक निदेषक(हस्तशिल्प), भारत सरकार एवं विभागीय अधिकारी/कर्मचारी तथा उद्यमी व शिल्पी उपस्थित रहे।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *