उत्तराखंड की मातृशक्ति के समूह द्वारा मिट्टी के पात्रों में व आम की लकड़ी से निर्मित काष्ठ आवरण में गंगा जल को घर-घर पहुँचाने का किया जा रहा है प्रयास।

देहरादून : प्रादेशिक कोऑपरेटिव यूनियन के माध्यम से गंगाजल संपूर्ण भारत में उपलब्ध कराए जाने का कार्य संचालित किया जा रहा है उसी क्रम में उत्तराखंड की मातृशक्ति के समूह द्वारा मिट्टी के पात्रों में तथा आम की लकड़ी से निर्मित काष्ठ आवरण में गंगा जल को घर घर पहुँचाने का प्रयास किया जा रहा है।

शनिवार को नेचर महिला स्वयं सहायता समूह हरिद्वार ने निबंधक सहकारिता कार्यालय के सभागार में निबंधक आलोक कुमार पांडेय व अन्य उच्चाधिकारियों के समक्ष पीसीयू द्वारा गंगा जल उपहार को प्रस्तुत किया गया। जिसमें घी तथा गाय के गोबर से निर्मित दीपक, गंगा जली रुद्राक्ष की माला मेवे का प्रसाद गंगा के फूलों से बनी धूपबत्ती, व गिफ्ट पैक आम की लकड़ी की पेटी जिसमें मंदिरों से हरिद्वार के मंदिरों से चुनरी चढ़ाई जाती है , बेसन , आटा , मंडवा का चूरमा सुंदर पैकेट बनाए गए हैं।

सोमवार को होने वाली सहकारिता मंत्री डॉ. धन सिंह रावत की समीक्षा बैठक में प्रादेशिक कोऑपरेटिव यूनियन (पीसीयू ) द्वारा उचित विपणन व्यवस्था कराए जाने हेतु अंतिम रूप दिया जाएगा।

निबंधक आलोक कुमार पांडेय का कहना है कि महिला स्वयं सहायता समूह तथा अन्य स्वयं सहायता समूह द्वारा स्वदेशी निर्मित लोकल फॉर वोकल वस्तुओं को क्रय कर प्रोत्साहित करना चाहिए। जिससे छोटे स्तर पर कार्य करने वाली मातृशक्ति व अन्य समूह को जीविकोपार्जन को मजबूत किया जा सके।

 

स्वयं सहायता समूह द्वारा मंडुवे का प्रसाद गंगा जली एवं रुद्राक्ष एवं तुलसी की माला तथा मिट्टी के नहीं गोबर के संबंधित दिए एवं गोबर के इस ट्रिक धूप बत्ती का निर्माण करती हैं इनको विपणन में समस्याएं आ रही हैं क्योंकि जितना यह उत्पादन करती है उसके हिसाब से इनको बाजार उपलब्ध नहीं हो पा रहा है, इस वजह से सहकारिता के माध्यम से इन्होंने निबंधक कार्यालय में संपर्क किया, जहां इन्होंने आज पर्वतीय पारम्परिक पोशाक में अपने बनाये प्रोडक्ट अफसरों के समक्ष प्रस्तुत किये।

नेचर महिला स्वयं सहायता समूह हरिद्वार ने निबंधक सहकारिता पांडेय का आभार प्रकट किया कि उन्होंने हरिद्वार में नगर आयुक्त रहते हुए यह महिला स्वयं सहायता समूह बनाई थी। निबंधक का प्रयास था कि गंगाजल में जो फूल फेंके जाते हैं उसकी धूपबत्ती बनाई जाए।

पीसीयू के प्रबंध निदेशक मान सिंह सैनी ने बताया कि, सोमवार को सहकारिता मंत्री के समक्ष यह महिला स्वयं सहायता समूह पर्वतीय पारंपरिक वेशभूषा में अपने बनाये गए प्रोडक्ट को प्रस्तुत करेंगी।

इस मौके पर निबंधक आलोक कुमार पांडेय, अपर निबंधक ईरा उप्रेती, संयुक्त निबंधक एमपी त्रिपाठी, पी सी यू के एमडी मान सिंह सैनी, प्रबंधक दीपक मेहता सहित नेचर महिला स्वयं सहायता समूह हरिद्वार की अध्यक्ष किरण भटनागर, सचिव सोनी, अनीता भट्ट, मधुबाला डंगवाल, नीतू वाला, जयंती थपलियाल मौजूद रहे।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *