मसूरी – हाईटेक स्मार्ट स्वच्छता के तहत 84 स्वच्छता कर्मियों को मोबाइल किये भेंट।

मसूरी। नगर पालिका परिषद के तत्वाधान में मसूरी में कूड़ा प्रबंधन हाईटेक करने व स्मार्ट कूड़ा प्रबंधन करने के क्षेत्र में अहम कदम उठाते हुए नेस्ले की ओर से 84 स्वच्छता कर्मियों को पालिकाध्यक्ष अनुज गुप्ता के हाथों मोबाइल फोन वितरित किए गये। कूड़ा प्रबंधन में इस तरह का अनोखा प्रयास पूरे उत्तराखंड में मसूरी नगर पालिका ने किया है।

कचरा प्रबंधन की दिशा में नगर अध्यक्ष अनुज गुप्ता द्वारा ने रेसिटी के माध्यम से अनूठा कदम उठाया गया। रिसिटी के द्वारा बनाया गया ऐप के माध्यम से अब शहर के कचरा प्रबंधन की दिशा में क्रांतिकारी बदलाव आयेगा व कचरे की डिजिटल निगरानी हो सकेगी। वेस्ट इंटेलिजेंस टेक्नोलॉजी के माध्यम से अब शहर के विभिन्न क्षेत्रो में कार्यरत स्वच्छता कर्मियों पर नजर रखने के साथ ही शहर में कितना टन कूड़ा उत्पन्न हुआ इसका वास्तविक रिकॉर्ड और डाटा भी इस ऐ पके माध्यम से पता चल सकेगा।

 

कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि नगर पालिका अध्यक्ष अनुज गुप्ता ने कहा कि मसूरी नगर पालिका स्मार्ट हाईटेक सफाई व्यवस्था बनाने जा रही है जिसके तहत यह मोबाइल फोन दिया जा रहा है। इससे जहां कर्मचारियों पर नजर रखी जा सकेगी वहीं कहां से कितना कूड़ा एकत्र हुआ उसका निस्तारण समय से ठीकढंग से हो रहा है या नहीं इसका भी पता चल सकेगा। वहीं नगर पालिका क्षेत्र में कचरे से राजस्व उत्पन्न करने के लिए एक नया मार्ग बनेगा।

इस मौके पर हिलदारी के प्रोजेक्ट मैनेजर अरविंद शुक्ला ने कहा कि रेसिटी नेटवर्क मसूरी में नेस्ले इंडिया के प्रोजेक्ट हिलदारी का तकनीकी भागीदार है। वहीं स्त्री मुक्ति संगठन कार्यान्वयन भागीदार है। परियोजना के स्थानीय भागीदार, कीन संस्था जो कचरा प्रबंधन की दिशा में सफलतापूर्वक कार्य कर रहा है। अरविंद शुक्ला द्वारा बताया गया कि रेसिटी का वेस्ट इंटेलिजेंस टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म के तहत कचरा प्रबंधन के शुरू से अंत तक के चक्र को संभालने में सक्षम है।  प्रारंभिक दौर में बेस लाइन स्टडी किया जाता है। इस अध्ययन के आधार पर सर्वेक्षण द्वारा प्रत्येक घरेलू एवं व्यवसायिक संपत्ति में मेटल क्यूआर कोड लगाए जाते हैं। साथ ही साथ भी रिसिटी के सदस्यों द्वारा कचरा प्रबंधन की दिशा में लगे पर्यावरण मित्रों को मोबाइल एप्लिकेशन का उपयोग करने के लिए 84 मोबाइल वितरण के साथ प्रशिक्षण देकर सशक्त किया गया है। प्रत्येक घर से गिला एवं सूखा कचरा एकत्र करके पर्यावरण मित्रों द्वारा केज में रखा जाता है कचरे की स्तर की दृश्यता प्रदान करता है। यह एप्लिकेशन पर्यावरण मित्र की उपस्थिति एवं कितनी इकाई से कचरे को एकत्र किया गया है जिसकी जानकारी नगर पालिका परिषद एवं कीन को प्राप्त होगी स्थानीय घरों से कूड़े का अलग अलग हुआ कि नहीं। इस क्रम में कचरा संग्रहण वाहन आकर कचरा एकत्रित करके इसे इसे डीडब्ल्यूसीसी दैनिक कचरा संग्रह केंद्र तक पहुंचा सकता है। डीडब्ल्यूसीसी में एकत्र किए गए अलग-अलग कचरे की मात्रा का आकलन एप्लिकेशन द्वारा किया जाता है और रिसाइकलर को बेचे जाने वाले सूखे कचरे की मात्रा को अपडेट किया जाता है। कचरा प्रबंधन की निगरानी डैशबोर्ड पर देखा जा सकता है।

इस मौके पर रूबीना अंजुम, पालिका स्वास्थ्य निरीक्षक वीरेंद्र बिष्ट, किरन राणा, रूबीना अंजुम, कीन के अशोक कुमार व हिलदारी के सदस्य मौजूद रहे।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सोशल मीडिया वायरल