मसूरी – झील के व्यवसायियों ने पालिकाध्यक्ष को ज्ञापन देकर झील के सौदर्यीकरण की मांग की।

मसूरी : मसूरी देहरादून मार्ग स्थित नगर पालिका की मसूरी झील के सौदर्यीकरण के संबंध में मसूरी झील व्यापारीगण उत्थान संस्थान ने पालिकाध्यक्ष को ज्ञापन दिया व मांग की गई कि झील की मरम्मत करने के साथ शौचालयों की दशा सुधारी जाय।
नगर पालिकाध्यक्ष अनुज गुप्ता के कार्यालय में मसूरी झील व्यापारीगण उत्थान संस्थान के सदस्यों ने अध्यक्ष राजेंद्र थपलियाल के नेतृत्व में ज्ञापन दिया जिसमें कहा गया कि मसूरी झील विगत कई वर्षों से दुदर्शा के चलते जीर्णशीर्ण हो चुकी है जिसके कारण लगातार पर्यटकों की संख्या में कमी आ रही है व उसका प्रभाव वहां के व्यापारियों पर पड़ रहा है। ज्ञापन में अवगत कराया गया कि झील के शौचालयों की दशा बहुत खराब है। यहीं हाल पार्किंग स्थल व रास्तों की है वहीं झील जाने वाले मार्ग पर लाइट भी नहीं है। न ही दुकानों की उचित व्यवस्था है न ही साफ सफाई है और न ही कूडा निस्तारण की कोई व्यवस्था है। इस पर पालिकाध्यक्ष अनुज गुप्ता ने कहा कि झील के व्यापारियों का एक प्रतिनिधि मंडल मिला जिन्होंने झील की दुर्दशा के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहाकि वास्तव में मसूरी झील दुर्दशा हो रखी है न स्ट्रीट लाइट है न साफ सफाई है न कूडा निस्तारण की व्यवस्था है, सडक व पार्किंग की दशा खराब है। झील का पानी भी गंदा हो रखा है। इस पर पालिकाध्यक्ष अनुज गुप्ता ने बताया कि मसूरी झील के टेंडर कर दिए गये हैं जो शासन की अनुमति से 15 सालों के लिए होने हैं जो आगामी दो माह में हो जायेगें उसके बाद वहां का सौंदर्यीकरण करवाया जायेगा। उन्होंने बताया कि इसके लिए पालिका तीन करोड़ रूपया ठेकेदार से जमा करवायेगी जिससे झील के सौदर्यीकरण का कार्य करवाया जायेगा जिसे बाद में किराये में काटा जायेगा। तथा आने वाले दो माह बाद झील का सौंदर्यीकरण शुरू करा दिया जायेगा व नये स्वरूप में नजर आयेगी। उन्हांने कहा कि झील में पर्यटन को बढाने की कई संभावनाएं हैं, वहा पर वाटर स्पोर्टस किया जा सकता है, आधुनिक झूले लगाये जा सकेंगे व इसके अलावा अन्य कई संभावनाएं भी है। वहीं पालिका की वहां पर काफी जमीन है जिसमें कुछ अतिक्रमण की जद में भी आ चुकी है उसे खाली कराया जायेगा वहीं पार्किंग व वेंडर जोन की भी व्यवस्था की जायेगी, बच्चों के लिए आकर्षक पार्क बनाया जायेगा व झील नये डेस्टिनेशन के स्वरूप में नजर आयेगी। उन्हांने यह भी कहाकि पालिका अपने पर्यटक स्थलों की दुदर्शा में सुधार लाने का कार्य कर रही है, इसी कड़ी में कंपनी बाग के टेंडर भी हो रहे हैं व उसे भी अपडेट किया जायेगा, मालरोड रोपवे का वेंटिंग रूम की दशा खराब थी उसे नया बनाया जा रहा है, वहीं उसमें म्यूजियम भी बनाया जायेगा। वही झूलाघर पर झूला लगाया जा रहा है। ज्ञापन देने वालों में राजेंद्र थपलियाल, माधुरी टम्टा, संतोष थापली, विजय थापा, रवि थापली, राकेश शाह, चरण सिंह, त्रिलोक चौहान, अमित व विक्की आदि थे।


पालिकाध्यक्ष अनुज गुप्ता ने झील के व्यवसायियों को भरोसा दिलाया कि झील पर जो लोग व्यवसाय कर रहे हैं उनका अहित नहीं होने दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि टेंडर की शर्तों में भी इसे शामिल किया गया है कि किसी भी स्थानीय को बेरोजगार नहीं किया जायेगा। वहीं नये ठेकेदार से वहां के व्यापारियों के लिए भी 15 साल का अनुबंध किया जायेगा ताकि सभी सुरक्षित रहे सकें।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सोशल मीडिया वायरल