मसूरी – पेयजल निगम की मनमर्जी व लापरवाही से किए जा रहे कार्य से हो रही परेशानी, लग रहा जाम।

मसूरी : पेयजल निगम की लापरवाही व गैर जिम्मेदाराना कार्यप्रणाली से पर्यटन नगरी में आम जनता परेशान है। शहीद भगत सिंह चौक पर दिन दहाड़े जेसीबी लगाकर खुदान करने से दिन भर चौक के सभी मार्गो पर जाम लगा रहा जिसके कारण स्थानीय निवासियों सहित पर्यटकों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा।


पर्यटन नगरी में पेयजल निगम द्वारा यमुना पेयजल योजना के तहत लाइन बिछाने का कार्य किया जा रहा है जिससे पूरे महीने से मालरोड पर दुकानदारों सहित पर्यटकों व स्थानीय नागरिकों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा जिसको देखते हुए प्रदेश के कबीना मंत्री व मसूरी के विधायक गणेश जोशी ने विधानसभा सभागार में पेयजल निगम अधिकारियों की बैठक बुलाई व उसमें सख्त निर्देश दिए थे कि मसूरी में दिन में कोई भी खुदाई का कार्य नहीं होगा व रात को 12 बजे से सुबह छह बजे तक ही खुदान का कार्य होगा व सुबह तक खोदी गई सड़क का लेबल किया जायेगा। लेकिन पेयजल निगम के अधिकारियों ने मंत्री गणेश जोशी के आदेशों की अवहेलना कर शहीद भगत सिंह चौक पर दिन में ही खुदान का कार्य शुरू कर दिया जिसके कारण मसूरी देहरादून मुख्य मार्ग पिक्चर पैलेस के मैसानिक लॉज पर जहां दो दो घंटे पर्यटक व स्थानीय लोगों के वाहन फंसे रहे वहीं लंढौर मार्ग, मालरोड, तिलक रोड व पार्किंग क्षेत्र से आने वाले वाहनों को भी घंटों तक जाम मे ंफंसे रहने पर मजबूर होना पड़ा। हालत इतनी खराब हो गई कि पुलिस के साथ स्थानीय नागरिकों को जाम खुलवाने में कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। जिससे स्थानीय नागरिकों में भारी आक्रोश रहा। क्योंकि एक ओर आज से ही बोर्ड की परीक्षाएं शुरू हो चुकी हैं वहीं स्कूल जाने वाले बच्चों को भी जाम में फंसने को मजबूर होना पड़ा। वहीं बोर्ड परीक्षा देने वाले बच्चों को वाहन छोड कर पैदल ही करीब दो किमी से अधिक की दूरी तय कर परीक्षा केंद्र पहुंचना पड़ा।

 

इस संबंध में जब पेयजल निगम के मुख्य अभियंता गढवाल केके रस्तोगी से फोन पर वार्ता की गई तो उन्होंने कहा कि शहीद भगत सिंह चौक पर एक सौ मीटर का छोटा पैच काटना जरूरी था क्योंकि उसके कारण सारा कार्य बाधित हो रहा था जिस पर मंत्री से बात की गई व उसके बाद ही कार्य शुरू किया गया। उन्होंने कहा कि वहां पर रात को कार्य नहीं हो सकता क्योंकि वहां पर पानी, टेलीफोन सहित अनेक लाइनें है जिन्हें बचाना जरूरी था। इस कार्य में थोड़ी परेशानी जनता को जरूर हुई होगी लेकिन यह कार्य जरूरी था। वहीं दूसरी ओर शहीद भगत सिंह चौक पर एक साइड से जाम लगने के कारण जब पर्यटकों के वाहन डिवाइडर के दूसरी ओर से मजबूरी में आये तो पुलिस ने उनके चालान कर दिये जिसके कारण पर्यटकों की कई बार बहस भी हुई व उन्हें घंटों जाम में  फंसे रहने के बाद भी चालान भरने को मजबूर होना पड़ा। जिसका पर्यटन पर विपरीत प्रभाव पडेगा।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *