भर्ती घोटाला चिंता जनक, आरोपियों पर हो कड़ी कार्रवाई – पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत

मसूरी : प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि प्रदेश में भर्ती घोटाला चिंता का विषय है। इसमें जो सुयोग्य बच्चें है उनके भविष्य के साथ शार्टकट वाले रिश्वत देने वाले लोग हमारी ऐजेंसी को प्रभावित कर रहे हैं उसके बारे में विचार करने की आवश्यकता है।
उन्होंने कहा कि इसका जो रिदम कांग्रेस के कार्यकाल में था उसके बाद जब मैं मुख्यमंत्री बना तो तब उस घोटाले को पकड़ा गया था और अब फिर से एक ऐसा घोटाला सामने आया है। ऐसा ही एक घोटाला उत्तरप्रदेश के समय बहुत पहले अधिनस्त सेवा चयन आयोग का आया था तब उसे निरस्त किया गया था। ऐसे में अगर इस तरह अत्याचार नई जनरेशन के साथ होता है तो इसे भंग कर देना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि ऐसे लोगों को पकड़ा जाना चाहिए चाहे कोई कितना बड़ा भी हो उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।


कददूखाल मां सुरकंडा मंदिर में पौधा रोपण कार्यक्रम में जाने से पहले प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत का भाजपा मसूरी मंडल की ओर से जेपी बैड़ टिहरी बाईपास रोड़ पर गुलदस्ता देकर व टीका लगाकर जोरदार स्वागत किया गया व उनके समर्थन में नारेबाजी की गई। इस मौके पर उन्होंने पौधा रोपण कार्यक्रम के बारे में बताया कि विगत दिनों वह सुरकंडा माता के मंदिर दर्शन करने गये थे वहां पर एक जल स्रोत है जिससे मां सुरकंडा देवी को पानी ले जाया जाता है, उस स्रोत में पानी बहुत कम हो गया है। वहीं मंदिर परिसर को पूरा टाइल लगाकर पक्का कर दिया गया है जिसके कारण पानी जमीन में नहीं रिस पा रहा है। इससे रिचार्ज का सिस्टम डिस्टर्ब हो गया है। ऐसे में मन को लगा कि वहां पर व्यापक वृक्षारोपण करना चाहिए व इसी सोच के साथ माता सुरकंडा को जो वाटर शैड है वहां वृक्षारोपण करने जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि हमारे साथ जियोजोलिस्ट डा. भटट, व पौधा रोपण करने वाली संस्था कल्पतरू संस्था के साथ जा रहे हैं यह संस्था एक एक पौधे को जियो टेगिल करती है ताकि पता लग सके कि जो पौधे लगाये गये है वह सुरक्षित हैं या नहीं। उनको मोबाइल पर भी देख सकते है कि उनका संरक्षण ठीक से हो रहा है या नहीं वह ठीक से पनप रहे हैं या नहीं। इसी कड़ी में देवभूमि विकास संस्थान ट्रस्ट के माध्यम से वहां पर पांच सौ से अधिक पौधे रोपे जायेगें। ताकि वहां पर पानी व हरियाली सुरक्षित रह सके। उन्होंने ऋषिपर्णा परियोजना के बारे में कहा कि जब वह मुख्यमंत्री थे तब उसकी डीपीआर बनायी गई जो चल रही है, उसके लिए 21 लोगों का तकनीकि स्टॉफ की भी नियुक्ति की गई थी वहीं वन विभाग से भी अनापत्ति मिल गयी है व यह कार्यक्रम जारी है। इस योजना के लिए ऋण लेने की प्रक्रिया जारी है। उन्होंने कहा कि निश्चित रूप पर्यावरण की दृष्टि से यह हमारी जरूरत है और जिस तरह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सपना है कि जीरो कार्बन एनर्जी पर जायें उसका प्रयास किया जा रहा है ताकि दून वैली में सस्ता पानी एवं स्वच्छ पानी चाहिए ऐसे में वर्षा के जल से स्वच्छ कुछ और हो नहीं सकता यह हमारी आवश्यकता है।

इस मौके पर देहरादून के मेयर सुनील गामा उनियाल, भाजपा जिलाध्यक्ष शमशेर सिंह पुंडीर, भाजपा मसूरी मंडल अध्यक्ष मोहन पेटवाल, महामंत्री कुशाल राणा, उपाध्यक्ष अमित भटट, सतीश ढौडियाल, महिला मोर्चा अध्यक्ष पुष्पा पडियार, महिला मोर्चा जिला कोषाध्यक्ष अनीता पुंडीर, नरेंद्र पडियार, विजय बुटोला, युवा मोर्चा अध्यक्ष अमित पंवार, पूर्व युवा मोर्चा अध्यक्ष राकेश रावत सहित भाजपा कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सोशल मीडिया वायरल