महिला सशक्तिकरण के तहत कैम्पटी में सेनेटरी नैपकिन यूनिट सह प्रशिक्षण केंद्र स्थापित।

मसूरी/टिहरी : मसूरी वन प्रभाग ने कैम्पटी वन रेंज के तहत सिया कैम्पटी में महिला सशक्ति करण के तहत सेनेटरी नैपकिन यूनिट सह प्रशिक्षण केंद्र स्थापित किया है। जिसमें छह दिनों तक स्थानीय महिलाओं को सेनेटरी नेपकिन बनाने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। प्रशिक्षण लेने के बाद महिलाएं नेपकिन बनाकर अपना स्वरोजगार कर सकेंगी।
डीएफओ कहकशां नसीम ने बताया कि सेनेटरी नेपकिन बनाने के केंद्र में महिलाओं को प्रशिक्षण दिया जा रहा है ताकि वह स्वरोजगार की दिशा में आगे बढ़ सकें वहीं महिलाएं व्यक्तिगत स्वच्छता पर ध्यान दे सकें। उन्होंने बताया कि यहां बनाये गये सेनेटरी नेपकिनों को बाजार उपलब्ध कराने के लिए स्थानीय लड़कियों और महिलाओं को कॉन्ट्रैक्ट स्टाफ और मार्केटिंग पर्सनल के रूप में भर्ती किया जाएगा। ताकि वह इन्हें बेच सकें। इस परियोजना का मुख्य उद्देश्य वयस्क महिलाओं में व्यक्तिगत स्वच्छता के मुद्दे की जानकारी देने के साथ ही स्वरोजगार के लिए प्रेरित करना है। स्थानीय महिलाओं और लड़कियों को 280 मिमी के एक्स्ट्रा लार्ज आकार के उच्च गुणवत्ता वाले सैनिटरी नैपकिन बनाने के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा है, ये नेपकिन कम दरों के साथ अल्ट्रा थीन, चार परत के बनाये जा रहे हैं जो आमतौर पर उपलब्ध औसत की तुलना में तीन गुना बेहतर है। यह इकाई आसपास के गांवों व बाजार में अपने उच्च गुणवत्ता वाले नैपकिन को काफी कम कीमत पर बेचेगी। उन्होंने बताया कि हाल में किए गये सर्वेक्षण के अनुसार, भारत में, केवल 20 प्रतिशत महिलाएं मासिक धर्म के दौरान सैनिटरी नैपकिन का उपयोग करती हैं तथा 80 प्रतिशत महिलाएं अभी भी पुराने कपड़े, पत्ती आदि का उपयोग करती हैं, जो अक्सर प्राइवेट पार्ट में फंगस इंफेक्शन का कारण बनते हैं। उन्होंने बताया कि हर जिले में कम से कम एक सेनेटरी नैपकिन यूनिट लघु उद्योग सेट-अप की अत्यधिक आवश्यकता है, ताकि उच्च गुणवत्ता वाले अल्ट्रा थिन नैपकिन कम कीमत पर उपलब्ध हो सकें।

इस मौके पर राजेश कुमार कश्यप ने बताया कि यह परियोजना प्रत्येक गाँव से सेल्स-वुमेन, गाँव की दुकान को आमंत्रित करने जा रहे है, जो सीधे इन नैपकिन को उचित जागरूकता और मासिक धर्म स्वच्छता पर शिक्षा के साथ बेच सकती हैं। ऐसा करने से महिलाए कम खर्च के साथ यौन रोगों को नियंत्रित करने में सक्षम हो सकेगी। भारत के दक्षिण भाग में स्थित कुछ ही निर्माता हैं, जो कम लागत वाली प्रभावी मशीन बनाते हैं और लागत प्रभावी और उच्च गुणवत्ता वाले सैनिटरी नैपकिन तैयार करने के लिए प्रशिक्षण और कच्चे माल का नियमित आपूर्ति प्रदान करते हैं। इसमें गुलज़ार क्रिएटर्स एक है।

इस मौके पर प्रभागीय वन अधिकारी मसूरी कहकसां नसीम, उप प्रभागीय वन अधिकारी सुभाष वर्मा, रेंज अधिकारी केम्पटी नीलम बर्त्वाल, कार्यक्रम समन्वयक कैट प्लान राजेश कुमार कश्यप, उप रेंज अधिकारी लोकेंद्र पटवाल, वनदरोगा अर्जुन सिंह सजवान, महावत दर्शन लाल, नरेश, अभिषेक, मनदीप और केम्पटी क्षेत्र की महिला प्रशिक्षु मौजूद रही।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *