निराश्रित गोवंश संरक्षण को लेकर जिलाधिकारी ने बैठक ली, ग्रामीण क्षेत्रों में भी बेसहारा पशुओं का सर्वेक्षण शीघ्र पूरा करने के दिए निर्देश।

रिपोर्ट – विनय उनियाल

चमोली/गोपेश्वर : जिलाधिकारी हिमांशु खुराना ने शुक्रवार को निराश्रित गोवंश संरक्षण को लेकर सभी संबंधित अधिकारियों की बैठक ली। उन्होंने निर्देशित किया कि शहरी क्षेत्रों के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में भी निराश्रित गोवंश की संख्या निर्धारण हेतु अगले तीन दिनों में सर्वेक्षण कार्य पूरा किया जाए। बेसहारा पशुओं के आश्रय हेतु चयनित भूमि का पुनः सत्यापन किया जाए। गोसदन संचालन के इच्छुक गैर सरकारी संस्थाओं से शीघ्र आवेदन प्राप्त किए जाए। सरकारी भूमि पर पूर्व से कार्यरत गैर सरकारी संस्था एवं नवीन गैर सरकारी संस्था को गोसदनों के संचालन हेतु भूमि आवंटन की कार्रवाई की जाए। निजी भूमि पर पूर्व से संचालित गौ सदनों की क्षमता बढ़ाने के लिए भी प्रस्ताव उपलब्ध करें। जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि बेसहारा पशुओं को आश्रय दिए जाने हेतु मिशन मूड में कार्य पूरा करना सुनिश्चित करें।

जिलाधिकारी ने गोसदन संचालन हेतु तहसील स्तर पर चयनित भूमि की समीक्षा करते हुए भूमि हस्तांतरण की प्रक्रिया के लिए भी तैयारी पूरी रखने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि खनन प्रभावित क्षेत्रों में गोसदन बनाने के लिए खनन न्यास निधि के अंतर्गत प्रस्ताव उपलब्ध करें। ताकि खनन प्रभावित क्षेत्रों में इस कार्य हेतु जिला स्तर से ही फंड उपलब्ध किया जा सके।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डॉ.ललित नारायण मिश्र, अपर जिलाधिकारी डॉ.अभिषेक त्रिपाठी, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ प्रलयंकर नाथ सहित सभी तहसील से एसडीएम, तहसीलदार एवं नगर निकायों के अधिशासी अधिकारी वर्चुअल माध्यम से उपस्थित थे।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सोशल मीडिया वायरल